Saturday, December 24, 2011

कुछ भी नहीं......

बस इक कली है प्याज की,
ये प्यार.... और ये ज़िन्दगी..
 

परत-दर- परत.... और कुछ भी नहीं.

* राकेश. २४.१२.२०११.
-------------------------------------

1 comment:

sushma 'आहुति' said...

सुंदर अभिव्यक्ति..